Sunday, April 4, 2010

बच्चा बच्चा राष्ट्र का,मातृ भूमि के काम का


टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा का पाकिस्तान प्रेम इस बात की पहचान है कि भारत और उसके धर्म संस्कृति भारतीय परंपरा को खत्म करने का सपना देखने वाले पाकिस्तान जैसे दुश्मन देश के प्रति मुस्लिम सोच क्या है। लेकिन सिर्फ सानिया मिर्जा जैसे कपूतो के कारण हम अपने भारतीय मुसलमानो को प्रति पूरी तरह नफरत नहीं कर सकते हैं। भारत में सभी मुसलमान इस मानसिकता के नहीं है कि खाओ भारत का गाओ पाकिस्तान का आज भी मुसलमानो के शरीर में 1857 के महान क्रांतिकारी बहादुर शाह जफर और दूसरी बार हुई क्रांति के शहीद अशफाक उल्ला खान जैसे महान देश भक्त मुसलमानो का खून दौड़ रहा है। शिव सेना सुप्रीमो बाला साहेब ठाकरे की आपत्ति के बाद पूरे देश में भगवा ब्रिगेड ने भी राष्ट्र हित में प्रदर्शन शुरु कर दिया है।
सनिया मिर्जा एक राष्ट्रीय खिलाड़ी है। वह देश की शान है। वह अपनेे अम्मी और अब्बू की बेटी नहीं बल्कि पहले वह देश की बेटी है। इसके बाद वह मुस्लिम समाज की बेटी है। इसके बाद वह हैदराबाद की बेटी इन सब के बाद वह अंत में अपने अम्मी और अब्बू की बेटी है। पाकिस्तानी खिलाड़ी से शादी करना कोई गुनाहा नहीं लेकिन जिस देश की सत्ता ने आतंकवाद को बढ़ावा देते हुए लाखो निर्दोष लोगो की जान लेकर कई मांगे को सूनी कर मासूमों को अनाथ कर दिया है। उस देश के साथ रिश्ता करना भारत की बेटी को शोभा नहीं देती है। भारत में बच्चा किसी भी प्रदेश में किसी भी शहर में किसी भी समाज और धर्म में हो वह बच्चा पहले राष्ट्र की धरोहर है। याने की बच्चा बच्चा राष्ट्र का ,मातृ भूमि के काम का अब यह बात अलग है कि वह राष्ट्र की सेवा किस रूप में करता है। जवान बनकर किसान बनकर अभिनेता बनकर या फिर नेता बनकर या फिर मामूली क्र्लक बनकर या फिर बेरोजगार बनकर वह है तो राष्ट्र की धोरहर और मातृ भूमि के काम का है।
बहुत से खतरनाक लोग (बुध्दिजीवी वर्ग) सानिया के पाकिस्तान खिलाड़ी शोयब अख्तर से शादी को गलत नहीं बताते लेकिन सिर्फ उनकी बेटी और बेटे के रिश्ते को दूसरे समाज धर्म में करने की बात करते ही आप का कलर पकडऩे को तैयार हो जाएगें। इसका एक आप अपने आसपास रहने वाले किसी बुध्दिजीवी के साथ इसका अभ्यास करके आप बड़े ही आसानी के साथ देख सकते हैं।
भारतीय मुसलमानो में क्या योग्य वर नहीं है। क्या भारत के मुस्लिम समाज में सानिया मिर्जा को शादी करने से पब्लिसिटी नहीं मिलेगी। पूरे देश में शिव सेना ,भाजपा ने सानिया की मूर्खता पर मोर्चा खोल रखा है। इस बात से सिर्फ हिन्दू संगठन ही नहीं बल्कि मुस्लिम समाज में भी रोष है। अनेक मुस्लिम नेताो ने सानिया के इस निर्णय की निंदा की है। लेकिन देश वासियो का दिल दुखा कर जाने वाली लोकप्रिय टेनिस खिलाड़ी के साथ क्या होने वाला है यह तो वक्त ही बताएगा।

No comments: