Friday, May 20, 2011

भ्रष्ट आधिकारियो ने उसे फसने का प्रयास करना छोड़ दिया ...जीत हुई जनता की ,,,,,,,,,,




पत्रकार होने के नाते मुझे इस घटना की जानकारी पहले ही हो गई थी। लेकिन मै शहर की तसीर नाप रहा था। दुसरे दिन ही मैं मानव अधिकार निगरानी समिति के पदाधिकारियों के साथ वहां न्यायालय पहुंचा। आधिवक्ता लीलाधर चंद्राकर से मिला। उन्हें पहले ही इसकी जानकारी दे चुका था। उन्होंने जमानत के लिए आवेदन लगाया। जमानतदार के रूप में घनश्याम चौधरी ने हलफनामा भरा। बिना जान पहचान के जमानत के दौरान हमे औपचाकिता पूरी करने में दिक्कत आई। लेकिन उस बुजग को बहार निकलना था। कैसे भी। देर शाम तक हम परेशान होते रहे। शाम को माननीय कायपालक दंडधिकारी ने भी रूचि दिखाई। जमानत दे दिया। शाम को मानव अधिकारी निगरानी समिति के लोग वहां पहुंच गए। बाहर निकलने पर सेवानिवृत सबइंजिनियर लोकेद्र सिहं भड़क गया। उसने कहा मुझे जेल में ही रहने दो। किसी तरह उन्हें समझाबुझाकर बाहर निकाला गया। उन्होंने अपने किसी रिश्तेदार के घर शांतिनगर में जाने की बात कहीं। दुसरे दिन उसने खुद फोन किया सुनीता जी को, मानव अधिकार निगरानी समिति के लोग कोषलाय पहुंचे। राजधानी की मिडिया ने पूरा सहयोग किया था। अखबार लोकेनदऱ के पक्ष में रंगे हुए थे. हरि भूमि,से ब्रम्हवीर जी का पत्रिका से अनुज सक्सेना का लगातार पूरे घटना को लेकर समथर्न रहा प्रेस क्लब अध्यक्ष अनिल पुसदकर,वाकिग जनलिस्ट के प्रदेशअध्यक्ष नारायण शमा सभी का फोन आ रहा था। सब का समथर्न था। ४.४२.१७०० का चेक मिला ..पिछले चार साल से अपने पेंशन के लिए भटक रहा था ,,९ मई को परेशान होकर उसने सब्जी काटने की छुरी से जिलाधीश परिसर में स्थित कोषालय के अधिकारी जे आर साहू पर हमला कर दिया था ,,धारा १५१ के तहत गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था ,,,१० मई को मानवाधिकार निगरानी समिति की प्रभारी सुनीता टिकरिया की पहल पर आधिवक्ता लीलाधर चंद्राकर ,पत्रकार भारत योगी ,घनश्याम चौधरी ,अमित सिंग ने लोकेंदर सिंग सेवान्रिवित सब इंजीनयर की जमानत करवाई ,,,११ मई को उसे उसका हक़ दिलवाया...इस पुरे मामले में सारे लोगो की हमदर्दी लोकेंदर सिंग के साथ थी ,,रायपुर की मिडिया ने पूरा सहयोग कर भ्रष्ट आधिकारियो की पोल खोली इस लिए भ्रष्ट आधिकारियो ने उसे फसने का प्रयास करना छोड़ दिया ...जीत हुई जनता की ,,,,,,,,,,

No comments: