Wednesday, February 10, 2010

अब सीबीआई करेगी बाबूलाल से पूछताछ

। रायपुर आयकर छापे के बाद कृषि सचिव बाबूलाल अग्रवाल और उनके पीए सुनील अग्रवाल द्वारा बयान बदला गया। आयकर अफसरो को जांच में मदद नहीं किए जाने और राष्ट्रीयकृत बैंक अफसरो के साथ मिली भगत कर किए गए करोड़ो रुपए के निवेश के मामले में आयकर विभाग ने यह प्रकरण बुधवार की शाम सीबीआई को सौप दिया। अब इस मामले में जांच का नेतृत्व सीबीआई करेगी। आयकर विभाग भोपाल के महानिदेशक (अन्वेषण) बृजेश गुप्ता ने बताया कि बुधवार को दिनभर बैक आंफ बड़ौदा में आयकर अफसरो द्वारा जांच पड़ताल की गई है। यहां के लाकर्स से 15 लाख रुपए नगद बरामद हुए है। यह लाकर्स पहले कृषि सचिव बाबूलाल अग्रवाल के नाम पर था। वर्तमान में इसे उनके भाई पवन अग्रवाल के नाम पर कर दिया गया है। आईएएस अफसर द्वारा किए गए कर चोरी के मामले में राष्ट्रीय कृत बैंक के अफसरो की भी मिली भगत का मामला सामने आ रहा है। इसे देखते हुए मामला सीबीआई को सौप दिया गया है। अब इस मामले में राज्य आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो,आयकर इन्वेस्टीगेशन सेल सहित सीबीआई जैसे देश की सर्वोच्च जांच एजेसीं भी जांच पड़ताल और आईएएस अफसर बाबूलाला अग्रवाल से पूछताछ करेगी। इस मामले में सीए सुनील अग्रवाल द्वारा भी आयकर अफसरो के खिलाफ दबाव डालने का शपथ पत्र अफसर को दिया गया था। इस पूरे मामले में आयकर अफसरो पर पलटवार करने की मंशा को देखते हुए आगे की जांच पड़ताल का नेतृत्व सीबीआई को सौप दिया गया है। बाक्सग्रामीण करेगे जांच एजेंसियों को मदद राजधानी से लगे खरोरा इलाके के मूल निवासी सीए सुनील अग्रवाल द्वारा गांव के लोगो का फर्जी तौर पर बैंक खाता खोला गया था। इस मामले में 28 ग्रामीण सीए सुनील अग्रवाल सहित उसके अस्टिेंट अलोक अग्रवाल और यूनियन बैंक के अधिकारी कर्मचारी के खिलाफ धोखाधड़ी कर उन्हें निवेश कंपनी में फर्जी तौर पर ज्वाइंट डायरेक्टर बनाए जाने और उनके नाम से फर्जी खाते खोले जाने के मामले में अपराध कायम करवाने वाली है। बताया जाता है कि इनके खाते से लाखो रुपए का लेनदेन हुआ है। इन्हें खाते और रकम के बारे में आयकर अफसरो से जानकारी मिल पाई है। आयकर विभाग के सूत्रो के मुताबिक छापे की कार्रवाई के दौरान ही बैंक अफसरो ने साक्ष्य मिटाने का कार्य किया है। बैंक में लगे विडियो फूटेज में 1 से 9 फरवरी का रिकार्ड गायब है।

No comments: